भाई दूज- मुहूर्त और थाली घर पर सजाने के लिए टिप्स

6 minute
Read
Happy bhai dooj.jpg

Highlights
दिवाली के दो दिन बाद यानि 6 नवंबर को इस बार भाई दूज की तिथि है। इस बार भाई दूज में आप थाली घर में खुद आसानी से डेकोरेट कर सकते हैं या फिर कुछ नया भी ट्राई कर सकते हैं जैसे कि घर की इको-फ़्रेंडली थाली।

भाई-दूज पर सजाएं अपनी थाली अनोखे ढंग से

दिवाली के ठीक दो दिन के बाद कार्तिक शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि को भाई-दूज का त्योहार मनाया जाता है। पर्व-त्योहारों से भरे ये कुछ महीने सबकी जिंदगी में एक नई तरोताजगी लेकर आते हैं। भाई-बहन के रिश्ते का अनोखा पर्व है भाई-दूज। ऐसे में बहनें अपने भाई के माथे पर तिलक लगाकर उनके सुखी जीवन की कामना करती हैं। भाई-दूज को भाऊ दूज, भात्र द्वितीया, भैय्या-दूज और भतरु द्वितीया नाम से भी जाना जाता है।

हर किसी का मन होता है कि त्योहार में उनका घर और वो खुद बेहद खूबसूरत लगे। घर को सजाने का ट्रेंड तो आजकल जोरों पर है। दिवाली के बाद आने वाले भाई-दूज के त्योहार पर घर को आप नए और आसान तरीके से सजा सकते हैं। अब देखिए, दिवाली के लिए तो सबका घर साफ होता है और सजावट भी बेहद खूबसूरत होती है। ऐसे में, भाई-दूज के मौके पर कुछ उलट-फेर करके आप डेकोरेशन को एक नया अंदाज दे सकते हैं। 

 मगर भाई दूज के अवसर पर सबसे जरूरी होता है पूजा की थाली तैयार करना। पूजा की थाली आप बनी-बनाई बाजार से भी ला सकते हैं। लेकिन, अपने हाथों से घर पर थाली तैयार करने का मजा ही कुछ और है। आज हम इस आर्टिकल में आपको भाई दूज के अवसर पर घर, पूजा की थाली सजाने के टिप्स देंगे, साथ ही बताएंगे भाई-दूज 2021 का शुभ मुहूर्त!

भाई दूज में घर को कैसे सजाएं? 

दिवाली के डेकोरेशन को वैसा ही रहने दें और इसके बाद आप अपनी और भाई की कुछ अच्छी तस्वीरों को चारों तरफ लगाकर भाई-दूज वाली वाइब क्रिएट कर सकते हैं। आप चाहे तो अपने मनपसंद के फूलों से एक बेहद बड़ी और सुंदर सी रंगोली भी तैयार कर सकते हैं। बाकी दिवाली के डेकोरेशन को दो और दिन के लिए रहने दें, आपको भाई दूज के लिए कोई स्पेशल डेकोरेशन नहीं करनी पड़ेगी।

भाई दूज के लिए पूजा की थाली कैसे तैयार करें?

भाई-दूज के अवसर पर पूजा की थाली को घर पर सजाएं कुछ इस तरीके से :

बाजार से एक सुंदर सी प्लेन या डिजाइनर थाली खरीद लें।

एक लाल कपड़े को इस थाली पर बिछाएं।

गेंदें के फूल से थाली को डेकोरेट करें।

थाली में रोली रखना न भूलें।

इसके बाद थाली में भाई के सिर को ढंकने के लिए रुमाल रखें।

अब थाली में अक्षत रखें। (अक्षत टूटा हुआ न हो)

थाली में एक सूखा नारियल और मिठाई जरुर रखें।

घी के दिए से अब थाली की सजावट को पूरा करें।

भाई-दूज के अवसर पर इस्तेमाल करें इको-फ़्रेंडली थाली

भाई-दूज के लिए कुछ नया करने का मन है तो आप खुद से तैयार कर सकते हैं इको-फ़्रेंडली थाली! पत्तों से बनी हुई थाली को फूलों से डेकोरेट करें! आप चाहे तो इसे किसी पसंदीदा रंग से पेंट भी कर सकती हैं। थाली के नीचे एक पतला पेपर बोर्ड चिपका कर बेस को मजबूत बनाया जा सकता है।

बाजार से खरीदें रंग-बिरंगी थाली भाई-दूज के लिए

अगर आपको खुद से थाली सजाने का वक्त नहीं है तो आप बाजार से रेडीमेड थालियाँ ले सकती हैं। ये थाली सभी जरूरी सामग्री के साथ मिलती है।

भाई-दूज 2021 का शुभ मुहूर्त 

इस बार भाई-दूज की द्वितीया तिथि 5 नवंबर 2021 को रात 11:14 बजे से शुरू होकर 6 नवंबर, 2021 को शाम 7:44 बजे समाप्त होगी। भाई दूज का शुभ मुहूर्त 6 नवंबर को दोपहर 1:30 बजे से शुरू होकर दोपहर के 3:46 बजे समाप्त होगा।

भाई दूज करने की विधि क्या है?

भाई दूज वाले दिन सुबह-सुबह नहा-धोकर तैयार हो जाएं।

आपके तैयार होने के बाद अब बारी है थाली को तैयार करने की!

थाली में रोली,अक्षत, घी का दिया, मिठाई और कलावा रख लें।

सबसे पहले भगवान विष्णु और गणेश जी की आराधना करें।

चावल के आटे से चौक को तैयार करें!

इसे चौके के ऊपर एक चौकी रखकर भाई को उसपर बैठने को कहें!

रुमाल से भाई के सिर को ढँक दें।

अब भाई के हाथों पर चावल का घोल बनाएं, इसपर रोली लगाएं!

फूल, सुपारी, कुछ पैसे आदि भाई के हाथों पर रख कर, पानी छिड़कें।

इसके बाद भाई के हाथ पर तिलक लगाकर, उसके खुशहाल जीवन, लंबी उम्र और स्वास्थ्य की कामना करें!

आखिर में भाई को अपनी बहन को उपहार देना चाहिए, उपहार देना भाई-दूज में काफी शुभ माना गया है।

अगर बहन शादी-शुदा है तो भाई को बहन के यहां जाकर भोजन करना चाहिए, इसे काफी शुभ माना गया है।

image-description
report Report this post