सिल-बट्टा, खल-बट्टा और सिल-बट्टे के फायदे

5 minute
Read
Silbatta and it's benefits

Highlights

जानिए सिल-बट्टे और खल-बट्टे के बीच का अंतर और साथ ही सिल-बट्टे के लाभ।

रुचि शर्मा

हर दिन नई तकनीकों के सामने आने के साथ, पारंपरिक खाना पकाने की तकनीकें गायब होती जा रही हैं। मिक्सर ग्राइंडर, इलेक्ट्रिक कुकर, इलेक्ट्रिक चॉपर आदि जैसे नए सुपर उन्नत तकनीकों के कारण, सिल बट्टे जैसे खास उपकरण अब अधिकांश घरों में उपयोग नहीं किए जाते हैं। आपने कभी-कभी अपनी नानी-दादी को सिल-बट्टे का उपयोग करते हुए देखा होगा या हो सकता है कि उन्होंने आपको बताया हो कि कैसे वे सिल-बट्टे और हमाम-दास्ते पर चटनी या मसाला बनाती थीं और मिक्सर में सब कुछ डालने के बजाय अपनी मेहनत से अनोखी स्वादिष्ट चटनीयां बनाया करती थीं। मिक्सर ग्राइंडर की सुविधा के कारण सदियों से चली आ रही खाना पकाने के तरीकों की अच्छाई हमारी रसोई से कहीं गायब हो गई है। आज हमने उस पुराने सिल बट्टे को आपकी रसोई में वापस लाने के लाभों की एक सूची तैयार की है और विश्वास करें, एक बार जब आप इसका उपयोग करने के लिए अभ्यस्त हो जाते हैं, तो आपके रसोई घर में कम से कम कुछ व्यंजनों को मिक्सी में वापस जगह नहीं मिलेगी! लेकिन इससे पहले हम बताना चाहते हैं की लोग अक्सर भ्रमित होते हैं की हमाम दस्ता (खल-बट्टा) और सिल-बट्टा एक ही बात है और इन शब्दों का एक दूसरे के स्थान पर प्रयोग करते हैं! लेकिन वे दो बिल्कुल अलग चीजें हैं।

हमाम दस्ता या खल-बट्टा (मोर्टार और पैसल) में एक मोर्टार होता है जो एक कटोरे के आकार का बर्तन होता है जिसका पाउंडर के साथ उपयोग करा जाता है। शुरूआती दिनों में इसे लकड़ी या पत्थर से बनाया जाता था। वे आकार में बहुत बड़े होते थे लेकिन अब वे छोटे आकार में उपलब्ध हैं और पीतल, ग्रेनाइट, संगमरमर या यहां तक ​​कि स्टील के बने होते हैं। इनका उपयोग मसालों को पीसने के लिए किया जा सकता है।

फोटो स्त्रोत- अमेजन

दूसरी ओर सिल-बट्टा दो चीजों से युक्त होता है- सिल एक सपाट पत्थर का स्लैब होता है जिसे आसानी से पीसने के लिए खुरदरा किया जाता है और बट्टा एक बेलनाकार पत्थर होता है जिसके माध्यम से वस्तु को पीसा जाता है। इसका उपयोग आमतौर पर गीली चटनी या पेस्ट बनाने के लिए किया जाता है। बट्टे को दोनों तरफ से दोनों हाथों से पकड़कर पूरी ताकत से आगे-पीछे किया जाता है ताकि सामग्री को दबाव के साथ पीस सकें।

अब जब आप अंतर जान गए हैं, तो आज हम उन सुगंधित पेस्ट और चटनी को बनाने के लिए सिल-बट्टे के उपयोग करने के लाभों के बारे में आपको बताते हैं!

फोटो स्त्रोत- अमेजन

1. भोजन का स्वाद बेहतर और अनोखा करता है

जब आप सिल बट्टे में सामग्री को पीसते हैं तो आपको जो फ्लेवर प्रोफाइल मिलता है, वह ऐसी चीज है जिसे अन्यथा कभी हासिल नहीं किया जा सकता है। जड़ी-बूटियों, मसालों और अन्य अवयवों के तेल और रस का सम-विमोचन सभी अवयवों से अधिकतम स्वाद प्रदान करने में मदद करता है। यदि आप भोजन का वह उत्तम स्वाद चाहते हैं, तो सिल बट्टा आपकी रसोई में अवश्य होना चाहिए!

2. अधिक सुगंध

जब आप चटनी और बैटर को मिक्सर ग्राइंडर में पीसते हैं तो सुगंध उतनी नहीं आती है। इसके बजाय जब एक सिल बट्टे के ऊपर इसे पीसते हैं तो सुगंध बहुत नैचुरल और अधिक होती है।

3. स्थिरता पर नियंत्रण (कंसिस्टेंसी)

आप तय कर सकते हैं कि आप अपनी चटनी की बनावट को मोटा या महीन बनाना हैं। आपको इलेक्ट्रिक ग्राइंडर की सेटिंग पर निर्भर होने की ज़रूरत नहीं है क्योंकि आप निरंतर देखते हैं कि आपकी चटनी किस स्थिरता तक पहुंच गई है और उस पर आपका पूरा नियंत्रण रहता है।

4. एक-समान तापमान

मिक्सर ग्राइंडर में बनने वाली चटनी का तापमान गर्मी के कारण बढ़ जाता है लेकिन जब आप इसे सिल-बट्टे पर पीसते हैं, तो तापमान समान्य रहता है और आपको सामग्री से सबसे अधिक पोषण मिलता है। सामग्री का प्राकृतिक स्वाद और अच्छाई बरकरार रहती है।

5. मिक्सिंग या कटिंग नहीं बल्कि वास्तविक ब्लेंडिंग

जब आप इलेक्ट्रिक ग्राइंडर का उपयोग करते हैं, तो वे वास्तव में सामग्री को एक महीन स्थिरता में काटने के लिए केवल तेज ब्लेड का उपयोग करते हुए मिलाते हैं, लेकिन सिल-बट्टा जड़ी-बूटियों और मसालों में तेल, रस और फाइबर को मिलाकर सभी सामग्रियों के वास्तविक सम्मिश्रण में मदद करता है।

6. व्यायाम

वास्तव में अच्छे स्वाद के साथ यदि आपको बलवान मांसपेशियां और पतले हाथ मिलते हैं, तो आप और क्या चाहते हैं? उस बट्टे को आगे-पीछे ढकेलने के लिए आवश्यक ताकत अच्छे व्यायाम करने में मदद करती है जो अंततः आपकी बाहों को मजबूत बनाता है!

फोटो स्त्रोत- वीनू किचन

टिप:

1. हमेशा गीली सामग्री को पहले सिल्ट-बट्टे पर डालें और फिर सूखी सामग्री को।
2. इसके अलावा हमेशा सिल-बट्टे को इस्तेमाल करने से पहले उसकी सफाई (क्युरिंग) करें (इसे नमक या रेत को इस पर अच्छे से पीसकर और फिर धोकर भी किया जा सकता है)।

हम आशा करते हैं कि सिल-बट्टे के इन सभी लाभों के बारे में जानने के बाद, आप इस पर कम से कम एक चटनी बनाने के लिए ललचाएंगे। न केवल अपनी नानी-दादी बल्कि किसी भी प्यारी नानी-दादी जिन्हें आप जानते हैं उन से एक रैसिपी लेना न भूलें और इसे हमारे साथ भी साझा करें। भरोसा करें, उनके पास एक से एक बेहतरीन रेसिपी होती हैं!

image-description
report Report this post